किसानों का आधार-प्रमाणित डिजिटल डेटाबेस 2021 | Aadhaar Certified Digital Farmer

आप सभी ने किसानों का “Aadhaar Certified Digital Farmer “में बहुत बार सुना होगा। भारत की केंद्र सरकार किसानों का आधार-प्रमाणित डिजिटल डेटाबेस को 21 जून को लांच करने जा रही है। कृषि संजीव अग्रवाल ने कहा है इस डाटा बेस का इस्तेमाल किसान से सम्भंदित सरकारी योजनाओ को प्रदर्शन करने लिए एक डाटाबेस के रूप में किया जायेगा रिकॉर्ड के अनुसार केंद्र सात और किसानो की उपलब्ध में किसान की सभी वास्तविक सूचियों को समेकन होगा।

केंद्र सरकार  कहा है की हमारे पास “PM-KISANकिसान क्रेडिट कार्ड,मुद्रा ,स्वास्थ्य कार्ड,फसल बिमा योजना और अन्य सरकारी योजनाओ लभरती डेटाबेस है। कृषि सचिव  कहना  है कि हम पुरे डेटाबेस को लिंक कर रहे है ,और सात  एककीकरण कर रहे है और आधार प्रमाणित डेटाबेस बना रहे है। जो सरकार के संचालित द्वारा सारी योजनाओ के लिए एक सन्दर्भ के रूप में काम किया जायेगा। यह डेटाबेस हमें प्रामाणिक लाभार्थियों तक पोछने  मदद करेगा। 7 करोड़ किसान सात डेटाबेस लांच किया जायेगा। Landholding  मैप किया जायेगा। किसानों का आधार-प्रमाणित डिजिटल डेटाबेस  अन्य जानकरी के लिए हमारे लेखक को अंत तक पढ़े।

Aadhaar Certified Digital Farmer

आधार प्रमाणित डिजिटल किसान डेटाबेस 2021

केंद्र सरकार के वर्त्तमान में किसान का डेटाबेस को एकीक्रत किया जायेगा। पहला आधार प्रमाणित किसान डेटाबेस 2021-22 योजनाओ के लाभार्थियों के लिए डाटबसे विलय के द्वारा बनाया जायेगा। और प्रधानमंत्री किसान कल्याण योजना को भी इसमें शामिल किया जायेगा।

  • पीएम किसान सम्मान निधि योजना
  • कृषक स्वास्थ्य कार्ड योजना             
  • फसल बीमा योजना List     
  • किसान क्रेडिट कार्ड योजना

भारत सरकार की क केंद्र सरकार ने किसान के आधार प्रमाणित डेटाबेस त्यार करने शुरु कर दिए है ,केंद्र सरकार ने विभिन राज्ये से कहा है की वे किसानो की भुमि की अच्छे से जांच करे।पीएम किसान योजना में भारत सरकार को 11 करोड़ किसानो का डाटाबेस मिला है। जिसमे से 85% लाभार्थी का किसानो का विवरण अब आधार प्रमाणित है। यह एक प्रक्रिया है और सिको भारत सरकार अपडेट करती रहेगी।

Aadhaar Certified Digital Farmer :- किसानो की जरूरतों को पूरा करने और उसको पहचान करने में सरकार की मदद करने के लिए पहले आधार प्रमाणित डिजिटल डेटाबेस के निर्माण में मदद मिलेगी।  किसानो की अवसक्ताओ की पहचान उनके उत्पादन और फसल की किस्मो के आधार पे की जाएगी। केंद्र सरकार किसान के भुमि को बढ़ावा देने के लिए और रासयना के उपयोग को काम करने के लिए चर्चा करेंगे ,वास्तविक में किसान जो भूमि रिकॉर्ड और फसल जो किसान पैदा कर रहे है,सर्कार मदद और उनकी योजनाओ को चलने में मदद करेंगे।

आधार-प्रमाणित डिजिटल किसान डेटाबेस के लाभ 2021

  1. भारत के नव निर्मित आधार प्रमाणित डिजिटल किसान डेटाबेस का उपयोग देश की सभी सरकारी योजनाओ के संदर्ब के रूप जायेगा।
  2. डेटाबेस प्रामाणिक लाभार्थियों तक पोछने में मदद करेगा।
  3. आधार प्रमाणित डिजिटल डेटाबेस को किसान 70 मिलियन किसानो के रिकॉर्ड के सात जारी किया जायेगा ,और होल्डिंग मैपिंग भी की जाएगी।
  4. जितना हो सके ज़्यादा से ज़्यादा किसानो को सरकारी योजनाओ का ;लाभ दिया जायेगा।

emoji

       इसे भी पढ़े –आधार कार्ड ऑनलाइन कैसे बनाये 

दोस्तों–उम्मीद करते हैं हमारे द्वारा दी गयी “किसानों का आधार-प्रमाणित डिजिटल डेटाबेस 2021” की जानकारी पसंद आयी तो इसको अपने दोस्तों के सात जरूर शेयर करे यदि आपको योजना से जुड़ी कोई भी जानकारी चाहिए तो आप कमैंट्स बॉक्स में कमैंट्स करके हमें बता सकते है कियोकि हम सबकी कमैंट्स पढ़ते है।

Leave a Comment